life aur money blog for life and how to make extra money, best succeess, motivation and inspiring stories in hindi

Sunday, 17 January 2016

शेर और लोमड़ी की कहानी से सिख motivation story


एक बौद्ध भिक्षुक खाना बनाने के लिये जंगल में सुकी लकड़ी धुंध रहा था। तभी अचानक भिक्षुक ने एक लोमड़ी देखी, जिसकी दो टाँगे नहीं थी लेकीन उपर से बिलकुल ही स्वस्थ दिख रही थी। भिक्षुक ये सोच के हैरान हो गया, आखिर ये लोमड़ी इस हालत में भी इतनी स्वस्थ कैसे है?




बौद्ध भिक्षुक अपने खायलो में खोया हुवा था तभी कही से हलचल हुई, जंगल का राजा शेर उस तरफ़ ही आ रहा था। बौद्ध भिक्षुक जल्दी से उच्चे पेड़ पे चढ़ गया और वहाँ से शेर को देखने लगा।



शेर ने हिरण का शिकार किया था। शेर हिरण को मुंह मे दबोच के लोमड़ी के पास गया। शेर ने लोमड़ी पे हमला नहीं किया बलके उसे खाने के लिये मांस के थोड़े टुकड़े दिये।




भिक्षुक ये देख के आश्चर्य हुवा की शेर, लोमड़ी पे हमला करने बदले उसे खाना खिला रहा था। भिक्षुक को अपनी आखो पे विश्वास नहीं हुवा इस लिये भिक्षुक दूसरे दिन वापस उसी जगहा पे आया और छुपके से शेर की राह देखने लगा। दूसरे दिन भी शेर ने लोमड़ी को खाना खिलाया।




भिक्षुक मन में ही बाते करने लगा की ये ही है ईश्वर होने का सबूत, वो जिसको भी जन्म देता है उसकी खाने की भी व्यवस्था कर देता है।



आज से में भी लोमड़ी की तरहा ईश्वर की दया पे ही जिंदा रहु गया, ईश्वर ही मेरी खाने की व्यवस्था कर देगा। ऐसा सोच के भिक्षुक एक जगह पे बैठ गया। पहला दिन बीत गया कोई नहीं आया। दूसरे दिन थोड़े लोग वहाँ से गुजरे लेकिन किसी भी आदमी ने भिक्षुक की तरफ़ नहीं देखा। खाने-पिने के बिना रहने के कारण भिक्षुक की तबियत बिगड़ने लगी वो कमजोर होने लगा और कही पे चल-फिर सके इतनी भी शक्ति नहीं रही।




एक दिन महात्मा वहाँ से गुजरे उसने भिक्षुक को इस हालत में देख के उस के पास गये और भिक्षुक को पूछा की तुम्हारी ऐसी हालत कैसे हुई? भिक्षुक ने महात्मा को सारी बाते बताई.......




भिक्षुक ने महात्मा से पूछा, आप ही बताये की ईश्वर मेरे साथ इतना निर्दय व्यवहार कैसे कर सकते है? किसी की ऐसी हालत कर देना क्या पाप नहीं है?




महात्मा ने जवाब दिया, बिलकुल सच् बात है ये पाप ही है। लेकिन तुम इतने बेवकूफ कैसे हो सकते हो? ईश्वर तुमको शेर जैसा देखना चाहते थे, लोमड़ी जैसा नहीं।




जिंदगी में भी ऐसा ही होता है, हमे जिस बात को जेसे समजना चाहिये हम उनसे उल्टा ही समजते है। हम सभी भी कुछ ना कुछ ऐसी शक्तिया है जो हमे सफ़ल बना सकती है। जरुरत है तो वो शक्तिओ की खोज करने की, पहचान करने की और ये बात याद रखने की कही हम भी शेर के बजाय लोमड़ी तो नहीं बन रहे?



Read more:-


अगर आपको ये कहानी अच्छी लगी हो तो please मुझे comment के माध्यम से बताये और आपके Facebook friends से share करे।

आपके पास हिन्दी में कोई article, stories या कोई जानकारी हो जो हमसे share करना चाहते हो तो हमे अपने photo के साथ e-mail कीजिये। पंसद आने पे आपका article आपके photo के साथ publish किया जायेगा। हमारा e-mail id है lifeaurmoney@gmail.com








Share:

A request

दोस्तों, आपसे एक निवेदन है की हमारे प्रेरणादायक Article अपने Facebook friends या किसी और माध्यम से share करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग एसी Motivation, Inspiring और Success stories पढ़के अपने जीवन को बहेतर बना सके। अगर आपको ये Article अच्छा लगा हो तो please मुझे comment के माध्यम से बताये।

Support

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner